have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Saturday, February 27, 2016

एक बदनसीब इंसान

एक बदनसीब इंसान

एक दर्दनाक चीख....
अमीर के बंगले से टकराई,
मगर पिघला ना सकी
उसके दिल को
कांक्रीट की दीवारों ने,
रोक रखा था उसे।

बुझा हुआ इंसान
छटपटाते हुए,
गेट तक पंहुचा 
और तड़प-तड़प कर कहने लगा...

मेरा बेटा मर गया है,
कफ़न के लिए कुछ पैसे दे दो
दया करो
रहम खाओ,

सुना तुमने?
मेरे बेटे का कसूर सिर्फ इतना था,
उसने तुम्हारी फैक्ट्री की बनी
नकली दवा खााई थी। 
इक तो पैसे नहीं थे,
दवा के लिए
जैसे-तैसे पैसे बटोरे
और उसे दवा खिलाई,

अब मर गया है,
कफ़न के लिए पैसे कहाँ से लाउं?
कुछ तो इंसाफ किया होता
मुझ बदनसीब के साथ।

नकली दवा में
कुछ और भी मिलाया होता,
मरने के बाद उसकी लाश  भी ना बचती
और वह गल गया होता।

कम से कम मुझ बदनसीब बाप को
तेरे दरवाजे पर
अपने बेटे की मौत के बदले
कफ़न ना मांगना पड़ता। 


No comments: