have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Monday, February 29, 2016

माँ का प्रतीक

माँ
सिर्फ नारी का रूप नहीं

यदि भाई के स्नेह में
‘माँ’ का अहसास हो

तब वह भाई‘ भी
‘माँ’ का प्रतीक है।

                                                                                याद

आज
याद
क्या आई
उनकी,
कब्र
से उठ कर
आंखू 
बहाने लगा  
 

Sunday, February 28, 2016

समर्पण और त्याग

माँ
का
उसके 
पति के प्रति
प्यार में
उतना ही
समर्पण है,

जितना 
माँ 
का 
बेटे
के प्रति 
प्यार में 
त्याग। 


Saturday, February 27, 2016

आज का इंसान

आज का इंसान

एक इंसान
अपने जिस्म के हजारों टुकड़े करके
अनुभव करने की कोषिष कर रहा है
दर्द को

खोज रहा है
ईमानदारी को
आखिर कहाँ छिपी है
इंसानियत?

हैरान है
खोजते-खोजते
दर्द 
गया कहाँ?

सोचने को मजबूर,
क्या आज के इंसान के लिए
दर्द की अनुभूति 
आवष्यक नहीं?

क्या अपने आप से गिरकर
जीना ही
आज के इंसान की 
इंसानियत है?

एक बदनसीब इंसान

एक बदनसीब इंसान

एक दर्दनाक चीख....
अमीर के बंगले से टकराई,
मगर पिघला ना सकी
उसके दिल को
कांक्रीट की दीवारों ने,
रोक रखा था उसे।

बुझा हुआ इंसान
छटपटाते हुए,
गेट तक पंहुचा 
और तड़प-तड़प कर कहने लगा...

मेरा बेटा मर गया है,
कफ़न के लिए कुछ पैसे दे दो
दया करो
रहम खाओ,

सुना तुमने?
मेरे बेटे का कसूर सिर्फ इतना था,
उसने तुम्हारी फैक्ट्री की बनी
नकली दवा खााई थी। 
इक तो पैसे नहीं थे,
दवा के लिए
जैसे-तैसे पैसे बटोरे
और उसे दवा खिलाई,

अब मर गया है,
कफ़न के लिए पैसे कहाँ से लाउं?
कुछ तो इंसाफ किया होता
मुझ बदनसीब के साथ।

नकली दवा में
कुछ और भी मिलाया होता,
मरने के बाद उसकी लाश  भी ना बचती
और वह गल गया होता।

कम से कम मुझ बदनसीब बाप को
तेरे दरवाजे पर
अपने बेटे की मौत के बदले
कफ़न ना मांगना पड़ता। 


Friday, February 26, 2016

विश्वास, कब्र

विश्वास

तू नहीं मिली मुझे
जमीं पर?
खोजता फिरूं
अब तुझे
मगर कहाँ?
आसमां के उस पार
या जमीं के अंदर,
लगता नहीं
मिलन होगा
कभी अपना
फिर भी मुझे
विष्वास है
मन में। 

कब्र

जिन्दा
लाषों की
कब्र
का प्रतीक,
कफ्र्यूगस्त
शहर का
हर
चैराहा। 



Thursday, February 25, 2016

माँ की निगाहें

बच्चों की निगाहें
हरदम
शून्य में
निहारती रहती हैं
माँ को।

क्योंकि 
माँ की स्वप्निल निगाहें
हर लेती है 
सब दुखों को
बच्चों के।

उसकी याद में

सूर्यास्त का वक्त
समुद्र का छोर,
गुलषन की महक
प्रकृति,
अपनी सुन्दरता
बिखेर रही थी।

मैं उस वक्त
वहीं लेटा हुआ
प्रकृति की सुन्दरता को
निहार रहा था।

मन प्रफुल्लित
दिल खुष था
तभी पायल की
झंकार ने मुझे
अपनी ओर आकृष्ट किया।

मैं एकाएक चौंका !
दिल की धड़कन बढ़ने लगी,
जिस्म कांप उठा
जुबान रूक गयी।

और मेरी आँखे
उसे एक टक
यँू देखने लगी
जैसे मेरी मनचाही
मुराद पूरी हो गयी हो।

और मैं खुषी के मारे
उसकी बाँहों में बाहंे डालकर
वहीं एक ओर
लेट गया।

तभी मुझे लगा
वो भीग गयी
मैं उसके जिस्म से
पानी पोछने लगा

फिर एक बार
और चैंका
नींद से जागा
और देखा...

मैं जिसके जिस्म से 
पानी पोंछ रहा था,
वो, कोई मन चाही
मुराद नहीं थी।

बल्कि बिस्तर का एक छोर था,
जो उसकी याद में
मेरे आंसुओं से
भीग गया था। 



Wednesday, February 24, 2016

मौत

इंसान एक मौत
से बचने के लिए
हजारों कोशिश'
करता है।
और 
जिन्दा रहते हुए भी
हजारों बार
मरता है।

चैराहा
मैं दोराहे पर नहीं
चैराहें पर खड़ा हूँ । 
दोराहे पर 
एक रास्ता
जिंदगी को
तो दूसरा
मौत को
जाता है। 

चैराहे पर
एक रास्ता
जिंदगी बड़ा
तेरा साथ है

तो दूसरा 
मौत से बड़ी 
तेरी जुदाई का
रास्ता। 
 

Tuesday, February 23, 2016

प्रकृति

विधाता का सुन्दर
सृजन है
प्रकृति।

प्रकृति का
उपहार है,
माँ।

माँ ही
प्रकृति है,
प्रकृति ही 
माँ। 

गुलाब एक फूल

गुलाब
एक फूल
यदि इन्सान की तरह
सोचता,
तो शायद
इतना खिला, सुगन्धित
कभी नहीं होता।

फूल भी,
अपने जिस्म में
इन्सान की तरह,
जहर घोलने लगता,
जो निष्चित ही उसे
जड़ से खोखला कर
गिरा देता। 



Monday, February 22, 2016

माँ-माँ होती है...

माँ-माँ होती है...

एक बच्चे के लिए, उसका पिता
दोस्त या दुश्मन हो सकता है,
दोस्त कभी दुश्मन
दुश्मन  कभी दोस्त हो सकता है।

अपने पराये, पराये अपने हो सकते हैं
वह आज कुछ और है, कल कुछ और हो सकता है,
मैं आज कुछ और हूँ
कल कुछ और हो सकता हूँ।

माँ-
जो कल माँ थी,
आज भी माँ है
कल भी माँ रहेगी।

एक पिता के लिए उसका बेटा
सपूत या कपूत हो सकता है,
एक सपूत या कपूत बेटे के लिए
माँ -माँ होती है।

एक बच्चे के लिए उसकी माँ
अच्छी या बुरी हो सकती है,
अच्छे या बुरे बच्चे के लिए
माँ-माँ होती है।

माँ का कोई अर्थ नहीं
माँ के लिए, कोई शब्द नहीं,
माँ-माँ होती है....
माँ-माँ होती है !!


Sunday, February 21, 2016

अनुक्रम

अनुक्रम

बाई का नज़रिया-7
अनुभूति  -  8

क्र. कविता                  पृष्ठ संख्या                               क्र. कविता              पृष्ठ संख्या
1 माँ-माँ होती है...       11                                             40 जि़न्दगी                         56
2 प्रकृति                 13                                             41 सीख                                 57
3 गुलाब का एक फूल 14                                             42 फासला                         58
4 मौत                      15                                             43 हमसफर                         59
5 चैराहा                 16                                             44 खुशियाँ                         60
6 माँ की निगाहें         17                                             45 हौसला                         61
7 उसकी याद में         18                                             46 गुरू कृपा                         62
8 विष्वास                 20                                             47 इंसानियत खतरे में           64
9 क़ब्र                         21                                             48 माँ, तुम याद आती हो        65
10 एकबदनसीब इंसान 22                                             49 एक बेटी तो होनी चाहिए! 66
11 आज का इंसान 24                                                     50 उपलब्धि                         68
12 समर्पण और त्याग 25                                             51 ज्ञान                                 69
13 माँ का प्रतीक         26                                             52 एक उम्मीद-नया वर्ष         70
14 याद                         27                                             53 अन्न-महिमा                 71
15 स्वतंत्रता दिवस-चिंतन 28                                             54 मध्यस्थता                 72
16 खामोषी                29                                             55 कानून का भय                 73
17 इंसान और यमराज 30                                             56 अतिक्रमण                 74
18 दर्द की अनुभूति         31                                                57       विष्व जनसंख्या दिवस 75
19 अपेक्षाएं और खीझ 32                                             58 साथी                          76
20 आदत                 33                                             59 हकीकत                         77
21 वजूद                         34                                             60 समभाव                         78
22 एहसास                 36                                             61 श्रीगणेष                         79
23 कीमत                 37                                             62 मौन                                  80
24 भ्रूण हत्या                 38                                             63 आत्म-चिंतन                  81
25 जीत                         40                                             64 माँ के समान                  82
26 साथ                        41                                             65 धापी                                 83
27 सजा                         42                                             66 नीड़                                 84
28 काल                   43                                             67 धापी नीड़                         85
29 रफ्तार                44                                             68 जीवन-एक दृष्टिकोण 86
30 माँ का आँचल        45                                             69 अपरिग्रह                         87
31 एक पल               46                                             70 हिरण                         88
32 मेरा प्यारा गाँव-छुईखदान  47                                     71 पैसा                                 89
33 छत्तीसगढ़ का वृन्दावन छुर्दखदान 48                             72 नया वर्ष मंगलमय हो! 90
34 हक                      50                                              73 माँ की याद                 91
35 स्वयं के आकलन का तरीका51                                     74 चलना ही जीवन है         92
36 संबंध           52                                                     75 राजा की खरोंच                 93
37 शेरनी           53                                                     76 रिष्ता                         94
38 इंसानियत  54                                                    77   नज़रिया                         95
39 प्रकृति की अद्भुत निगाहें 55

Saturday, February 20, 2016

अनुभूति

यह मेरा सौभाग्य ही है कि मास्टरजी जिन्हें लेाग, पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी के नाम से जानते हैं, उनके सानिध्य में मैंने कई वर्ष व्यतीत किये। सन् 1948 में पहली बार मैंने मास्टरजी के दर्षन किये। मास्टरजी हिन्दी विषय के शिक्षक थे, उन्होंने मुझे भी पढ़ाया हैं मेरा यह भी सौभाग्य था कि मास्टरजी सन् 1955 में मेरी शादी की बारात में जिला-बालाघाट के कटंगी गए थे, तथा वहाँ रूके थे। मास्टरजी बहुत दिनों तक तो हमारे गाँव छुईखदान में भी रहे हैं। मास्टरजी की प्रेरणा से मैं हिन्दी साहित्य से जुड़ा रहा और मैंने साहित्यालंकार, शिक्षारत्न, आचार्य एवं हिन्दी विशारद की परीक्षा उत्तीर्ण की। मास्टरजी अत्यंत सरल स्वभाव के थे। सन् 2006 में मुझे बख़्शी सृजन पीठ एवं छत्तीसगढ़ शासन द्वारा बख्शी जी का शिष्य होने का पुरस्कार मिला।
मेेरा छोटा भाई नीलम, जिस कमरे में पढ़ाई करता था उसी कमरे में मास्टरजी दो दिन रूके थे। नीलम को सन् 1975-76 अर्थात उसके स्कूल के दिनों से ही लिखने का शौक था। कई बार उसने मुझे अपनी भावनाओं को व्यक्त कर दिखाया और मैंने उसे साहित्य के बारे में मास्टरजी की उल्लेख करते हुए बताया था, कि मास्टरजी कितने सरल स्वभाव के उच्च केाटि के व्यक्तित्व के धनी थे। नीलम की कुछ कविताओं को देखने के बाद मैंने उसकी कविताओं में एक संदेश  देखा। माँ के बारे में उसके विचार हमनें उसके जीवन में अनुभव भी किये। 
मैं उसके अत्यंत उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ ।


भंवर लाल सांखला
 


Friday, February 19, 2016

समर्पण

सृजन का अनुपम उपहार
‘‘माँ के श्रीचरणों’’ में
हमसफर की अविस्मरणीय प्रेरणा
एवं बिटिया की सुकोमल भावनाओं में।  

बाई का नज़रिया

हर इंसान अपनी आँखों से दुनिया देखता है। अपनी जुबां से मन के विचार व्यक्त करता है।
न्याय के मंदिर में हमेशा  एक-एक विधिक शब्दों में लम्बी-लम्बी जिरह होती है, हर केाई अपने अनुसार स्वत्व, कब्जा, चोरी, लूट, लापरवाही इत्यादि की व्याख्या करते चले जाता है, और अपनी परिभाषा देता है।
मेरे मन में कई बार यह विचार आता है कि मैं भी अपने मनोभावों को परिभाषित करूं। निगाहें मेरी, नजरिया माँ का, जेहन में रखकर मैंने कई परिभाषाएँ इस पुस्तक के माध्यम से पहली बार आपके समक्ष पेश  करने की साधारण सी कोशिश  की है। मेरी यही आशा  है कि मेरी कविता या यूं कहें मुक्तक को ईष्वर, कुल देवी श्री जेागमाया, श्री रानी भटियाणी माजीसा, आचार्य श्री नानेष, श्री रामेष, माँ-पिताजी, गुरू, भाई, बहन, हमसफर श्रीमती संजू सांखला और बेटी की प्रेरणा से मैंने स्वभाव के अनुसार हिंदुस्तान घूमते हुए प्रकृति के सानिध्य में जाकर व्यक्त किया है।
मैं अपनी बेटी कु.पूर्वी सांखला और कम्प्यूटर मास्टर प्रमोद अचिन्त्य का भी शुक्रगुजार हूँ .....जिन्होंने भी मुझे प्रेरणा दी ......अपने विचार को लोगों के सामने रखने की। मैं, समालोचक डाॅ. प्रवीण गुप्ता एवं यश  पब्लिकेशन का भी शुक्रगुज़ार हूँ ।

नीलम चंद सांखला


Thursday, February 18, 2016

bai ki nazariya




नीलम चंद सांखला



यश  पब्लिकेशंस
दिल्ली




Saturday, February 13, 2016

एक पल

एक पल
उनके साथ
होने को जी चाहता है।

एक पल
सुकुं का
बिताने को जी चाहता है।

हर पल मेरा
उधेड़-बुन में
लगा है।

वह एक-पल,
समर्पण का
लाऊँ कहाँ से?
मेरा प्यारा गाँव-छुईखदान

इस ब्रह्माण्ड में
प्यारी हमारी
धरती माँ

इस धरा के खूबसूरत देश 
हिन्दुस्तान की धड़कन में बसा
छत्तीसगढ़।

छत्तीसगढ़ का शालीन जिला
राजनांदगाँव की आत्मा में बसा
मेरा प्यारा गाँव छुईखदान।

पीली छुई जो घरों को संवारती है
उसी छुई की खदान ने नाम दिया है
मेरे गाँव को छुईखदान।