have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Thursday, June 19, 2014

माँ की पुण्य तिथि पर उनको श्रद्धांजली दिनांक 19.06.2014

 माँ की पुण्य तिथि पर उनको श्रद्धांजली,  दिनांक 19.06.2014







4 comments:

mera blog said...

हार्दिक श्रद्धांजलि ।
छू जाने वाली कविताओं के साथ गहराई ली हुई तस्वीरे घुलमिल सी गयी है, 6 माह पूर्व आज ही के दिन मेरे पिताजी का स्वर्गवास हुआ था, आपके व्दारा माँ के लिये महसूस किये गये भाव मै अपने पिताजी के लिये महसूस कर रहा हूँ , आपका धन्यवाद।

yuvraj belsar said...

bahut hi achhi rachha hai sir ji...
kuchh hi shabdo me aapne "maa" ka bakhubi se varnan kiya hai...

SUMIT said...

एक फ़ोन कि घंटी बजी
और नंबर आया माँ
कर दिया silent फ़ोन को
वो यू ही बजता रहा
कुछ देर बाद फिर बजी घंटी
और ये सिलसिला ऐसे ही कुछ देर चला
फिर थक गए माँ के बूढ़े हाथ
और लेट गई आखों में आंसूवो के साथ
फिर जब रात चांदनी कि डूब गई
सूरज ने पंख फैला लिए
ख़त्म हो गई जब पार्टी बेटे कि
तब पूछा माँ को कर के फ़ोन
हाँ क्या बात है क्यू कर रही थी ऐसे फ़ोन
क्या बोलती बेचारी माँ
बस कहा कुछ नहीं तेरी याद आ रही थी
चलो ठीक है और कट कर दिया फ़ोन
माँ के आखों में इस बार भी आसू थे
माँ के आखों में उस बार भी आसू थे
पर बेटा क्या जाने उस दर्द को
जो हर माँ महसूस करती है
हर गम को सह कर हर आंसू को पीकर
गुम-सुम सी रहती है.......

Anonymous said...

wowwww .. amazing !!!