have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Sunday, November 24, 2013

तुम मुझे कैसे भुला पाओगी

तुम लाख भुलाना चाहो मुझे
तुमको मैं भुलाने नहीं दूंगा  

बॉंध को देखकर भूल मत करना
नदियों नें बहना भूल गयी

शहरों के महलों में घरौंदे बनते ना देख
ये मत समझना चिड़ियों नें चहकना छोड़ दिया

मुझे डराना नहीं आता तो क्या हुआ ?
लोग अब भी प्यार से डरा करते हैं

ख़्वाबों को सुबह भुला सकती हो तुम
मैं तो पलकों में बसा करता हूं

निगाहें कभी थकेंगी नहीं
इस मुगालते में मत रहना

जरा निगाहों की ओर तो देख ले
पलकों को इशारा कर दी है

निगाहों में तस्वीर किसी और की है
मगर झपकते पलक में तस्वीर मेरी है

मैं तुम्हारे दिल में नहीं
धड़कनों में बसा करता हूं

धड़कता दिल जिस्म से नहीं
धड़कनों से बात करता है

तुम धड़कनों को चाह कर भी रोक नहीं पाओगी
फिर कहो, कैसे ? 'तुम मुझे भुला पाओगी'

                                                                 नीलम चंद सांखला

Friday, July 19, 2013

Pachmadhi

पचमढ़ी मध्य प्रदेश का प्राकृतिक सुन्दर हिल स्टेशन है, जो नागपुर-भोपाल-जबलपुर के करीब है .
पचमढ़ी 
यहाँ बहुत सारे सुन्दर झरने है।

Thursday, June 27, 2013

ek beti to honi chahiye---27.06.2013--happy b'day

एक बेटी तो होनी चाहिए !

अपनी बेटी केजन्म दिन में
क्या उपहार दूं ?उसे---

ईश्वर ने मुझे
इसांनो की दुनिया के
सृजन का उपहार दिया है .

मेरे सारे उपहार,बौना है
विधाता के उपहार के सामने---

बेटियों का अस्तित्व,बचाये रखना ही
सबसे बड़ा उपहार है,विधाता के लिए---

मैं खुशनसीब हूं,ईश्वर ने मुझे बेटी देकर
ईश्वर को उपहार देने काएक मौका दिया---

यही मेरा उपहार है,बेटी के लिए
ईश्वर उसकी खुशियां,सलामत रखें---


Wednesday, June 19, 2013


माँ की याद ः १९-०६-१९८८ स्े १९-०६-२०१३


माँ की २५वीं पुण्यतिथि में...
माँ की याद
अपनी निगाहों से हरदम
मेरा ख्वाब सजाने वाली,
ख्वाबों की दुनिया को
हकीकत बनाने वाली ।
                                              २५ बरस पहले देखा था तुम्हें,
                                              आज हर पल मेरी निगाहों में बसने वाली ।
बरसों पहले गोद में तेरे
बिताये थे चंद लम्हें,
आज तेरी यादों के गोद में
हर-पल जिये जा रहा हूँ ।
                                              बरसों पहले तुम्हारे हाथों से
                                              माथे को सहलाने का
                                              अहसास है मुझे,
                                       अब भी
यकीं नहीं तो देख ले 'नीलम ' 
मेरे सर के उपर हरदम
तेरे हाथ का साया है,
माँ ।

Sunday, June 16, 2013

chalana hee jivan hai

चलना  ही   जीवन  है


      सिर्फ  चलते   चले   जाओ ....
      हर  कदम  मंजिल   करीब  आयेगी .


                                                         प्लान  बनाकर  चलते  चले  जाओ ...
                                                         एक  कदम  मंजिल  और  करीब   आयेगी .


    बिना  स्वार्थ  के  चलते  चले  जाओ ....
    हर कदम  सफलता  के  मंजिल  तक  पहुंचायेगी .

                                                               
                                                        जीवन का एक कदम दूसरों  के  लिए बढ़ाओ ...
                                                         मंजिल  में  पहुचना  सार्थक  हो  जायेगी .

     

Wednesday, June 12, 2013

माँ
दुनिया में माँ
कुदरत की
अनमोल
उपहार है ।

maa

दुनिया  में  माँ
कुदरत  की
अनमोल
उपहार है .

Sunday, May 12, 2013

mother's day

बच्चों की निगाहें
हरदम
शून्य में
निहारते रहती है
माँ को ।
क्योंकि
माँ की स्वप्निल निगाहें
हर लेती है
हर दुखों को
बच्चों की ।

Sunday, May 5, 2013

SNOW

From Yumthang to zero point, Sikkim ,India.

Bringing close to nature.

Monday, April 29, 2013

Yumthang

Yumthang , Sikkim , India


Beauty of Himalayas could be seen here...!!!

Wednesday, March 27, 2013

Happy Holi

अनेक  रंगों  का 
होली  का  त्यौहार
आपके  जीवन  को 
अनेक  रंगों  की 
ख़ुशियों  से  भर  दे .

Sunday, February 3, 2013

, gaumukhi / dongeshwar mahadev -yatra-4



Gaumukhi /Dongeshwar Mahadev is a beautiful picnic place. It is near my village Chhuikhadan in Rajnandgaon District of Chhattisgarh. I visited their so many times. My lost visit was on 31.12.2012.