have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Sunday, May 13, 2012

 मातृत्व दिवस  बनाम  मादा  भ्रूण  हत्या 
-------------------------------------------------

विधाता ने प्रकृति की हर माता को 
मातृत्व गुण से नवाज़ा है 

इन्सान ही नहीं 
पशु - पक्षी, कीट - पतंगों 
हर एक में 
मातृत्व की झलक देखी जा सकती है 

विधाता ने इंसान को "विवेक "
पशु - पक्षी , कीट - पतंगों से कहीं ज्यादा दिया है 

इन्सान मातृत्व की जननी
मादा भ्रूण को पहचान कर 
नष्ट करने में जिस विवेक का 
परिचय दे रहा है 
उससे विधाता हैरान और खुश भी  है 
हैरान इसलिए  कि उसने इंसान को 
ईश्वर की सुन्दर कृति  कैसे  कहा 
और  खुश इसलिए  उसंने 
पशु -पक्षी , कीट -पतंगों  को 
विवेक कम  दिया 
अन्यथा दुनिया  में ,इन्सान  के  साथ 
प्रकृति  पूरी  तरह  नष्ट  हो  जाती 
और समय  पहले  प्रलय  देखकर 
विधाता फिर  किसे 
दुनिया में  पहले 
सृजन  के  लिए  भेजता .

1 comment:

Anonymous said...

insan ke charita ko batati kavita.