have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Thursday, November 15, 2012

yatara-3---SAM-

रेगिस्तान  का  खूबसूरत  नज़ारा ------मैंने  एक  बार  देखा  है .  राजस्थान  के  जैसलमेर  से  45 किलो  मीटर
                                                                                               दूर  है .सम उस  स्थान  का नाम है .


Wednesday, November 14, 2012

yatra-2----Mount Abu


Mount Abu is a beautiful  Hill Station in Rajasthan.
I have gone there once.

IN REMEMBRANCE -----

1.Nakki lake- enjoying nature beauty of lake while boating.
2-Leisure time on hill
3-Sun set ----

Tuesday, November 13, 2012

yatra-1 and happy diwali

कोल्हापुर  का  माँ  लक्ष्मी  का  प्राचीन  मंदिर  कहतें  हैं  दो  हज़ार  साल  पुराना  है . यह  मंदिर महारास्ट्र  राज्य में  पूणे  गोवा  रास्ते  में  पड़ता  है .मैंने   भी  परिवार  सहित  एक  बार  दर्शन  किया है .



         अनगिनत  samridhi के  दीपों  के  बीच  एक  दिया  मेरा  भी
          आपकी      samridhi  के  लिए .

                                     happy  diwali .















Saturday, November 10, 2012

Wednesday, August 15, 2012

15 अगस्‍त 2012 / स्‍वतंत्रता दिवस - चिंतन

स्‍वतंत्रता का महत्‍व तभी जान पायेंगे
जब भारत को प्राचीन मूल्‍यों
के शिखर पर पहुँचायेगें ।

सदियों की गुलामी की दास्‍तां से
मुक्‍त कराने वाले वीर शहीदों ने
न सिर्फ हमें आजादी दिलाई
बल्कि भारतीय संस्‍कारों को बचाने की
सीख भी दी ।

स्‍वतंत्रता आत्‍म संयम और अनुशासन
की सीख देती है
कही हम देश के वजूद को
स्‍वयं की स्‍वतंत्रता
समझ कर खो न दे ।

Sunday, August 5, 2012

chowraha

मुक्ता  में प्रकाशित  कविता 



Sunday, July 29, 2012

chand lamhein

पूरी ज़िन्दगी
तेरे साथ बिताऊं
ऐसी मेरी किस्मत कहाँ

तेरे बिना
ज़िन्दगी गुज़ारूँ
ऐसी मेरी हिम्मत कहाँ

तेरे बिना भी
तेरे साथ
जीना सिख लिया 

यकीन न हो तो
आके देख ले पल भर
तेरे ख्यालों  के आगे
बौना बनाया है जीवन को .

Wednesday, June 27, 2012

pyaree purvi/gudiya/sunny ke liye

जन्म  दिन  मुबारक  हो 


बाई की हरपल
 याद दिलाने वाली 'गुडिया' !
दुनिया पश्चिम की ओर भाग रही है ,
तब पूरब को बचने वाली' पूर्वी '
सूरज की  किरणों से' सनी  '
 उजाले बिखेर रही है ,
हर पल हमारे जीवन में .
प्रार्थना है ईश्वर से
पूरा  जीवन  उसका
माँ  का  नजरिया  लिए ,
पूरब  के  मूल्यों  से  भरा
सूरज  की रोशनी सा
चमकता  रहे .


( हम  लोग  माँ  को बाई  पुकारा  करते  थे  )

Tuesday, June 19, 2012

maa kee 24 vin punya tithi men



आज  माँ  की  याद   ने  फिर  एक   नजरिया  दे  दिया . धापी बाई  सांखला  मेरी  माँ  कर्नावट  खानदान  से  थी .

              ख़ुशी  में  हर  अपने
              साथ  होना  चाहते  हैं
              न  बुलाने  पर
              नाराज़ हो  जाते  हैं .

                                                 गम  में  आने  से
                                                  कतराते  हैं
                                                  न  आने  के  हज़ार
                                                  बहाने  बनाते  हैं .

      माँ  आज  भी  सीख  दे  गई
      चलने  के लिए  कारंवा  की  नहीं
      हवसले    की  ज़रूरत  होती  है
      और  मैं  अकेला  चल  पड़ा .

Sunday, June 10, 2012


Tala, chhattisgarh
100km from raipur(C.G.)
tala,rudra mahadev.
bandhavgarh national park
dated -june 2011
one of best national park of India.
near about 40km away from umaria district(M.P.)

Thursday, May 31, 2012

maa ka aanchal




                                                                              neelam chand sankhla

Wednesday, May 30, 2012

Sunday, May 13, 2012

 मातृत्व दिवस  बनाम  मादा  भ्रूण  हत्या 
-------------------------------------------------

विधाता ने प्रकृति की हर माता को 
मातृत्व गुण से नवाज़ा है 

इन्सान ही नहीं 
पशु - पक्षी, कीट - पतंगों 
हर एक में 
मातृत्व की झलक देखी जा सकती है 

विधाता ने इंसान को "विवेक "
पशु - पक्षी , कीट - पतंगों से कहीं ज्यादा दिया है 

इन्सान मातृत्व की जननी
मादा भ्रूण को पहचान कर 
नष्ट करने में जिस विवेक का 
परिचय दे रहा है 
उससे विधाता हैरान और खुश भी  है 
हैरान इसलिए  कि उसने इंसान को 
ईश्वर की सुन्दर कृति  कैसे  कहा 
और  खुश इसलिए  उसंने 
पशु -पक्षी , कीट -पतंगों  को 
विवेक कम  दिया 
अन्यथा दुनिया  में ,इन्सान  के  साथ 
प्रकृति  पूरी  तरह  नष्ट  हो  जाती 
और समय  पहले  प्रलय  देखकर 
विधाता फिर  किसे 
दुनिया में  पहले 
सृजन  के  लिए  भेजता .

Wednesday, January 18, 2012

नया वर्ष मंगलमय हो

-----------२०१२ -------------------

जीवन के राह में

अपने

बहुत कम नज़र

आते हैं ।

अपनत्व को बनाये रख

२०१२ की राह में

चलते चले जाइये

अपने ही अपने

नज़र आयेंगे ।


नया वर्ष शुभ हो