have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Sunday, February 13, 2011

माँ माने त्याग और प्यार









सर पर गागर रखकर




कुंए से पानी लाने वाली




लालटेन की रौशनी से




बिजली की रौशनी को




धता दिखाने वाली




बच्चों की परवरिश में




अपने सुखों का




न्योझावर करने वाली




अपने कोख से




साध्वी को जनने वाली




माँ तुझे त्याग की




मूरत कहूँ




या




प्यार लूटाने वाली




सागर ।





( छोटी काकीजी माने स्वर्गी श्रीमती रेशमी बाई सांखला से जुडी कुछ बातें आओ आज तुम्हे बताऊँ ---संचेती खानदान ,कोरना , राजस्थान से सांखला खानदान में आई थी । पति स्वर्गी श्री गेंद मल जी , पुत्र - उत्तम , सुरेश ,जेठमल ,---पुत्री -बिमला ( जो अब विनय श्री के रूप में आचार्य नानेश -रामेश, के सानिध्य में जैन धर्म की सेवा में लगकर सांखला खानदान का नाम रोशन किया है ), शकुन ( जो अब दुनिया में नहीं है ), श्रीमती सुनीता ( जिनके एक पुत्र और एक पुत्री ने अपने जीवन को जिनशासन को सोंपा है ), श्रीमती सुषमा । पौत्र --गोलू , नीलू , रोशन ।







छोटी काकीजी ने १०.२.२००६ , शुक्रवार को छुईखदान में अंतिम साँस ली .
























6 comments:

Roshan Sankhala said...

Kaka ji aap yaha par kewal Jethmal na likh kar Uttam chand, Suresh chand, jethmal likhna......

ali said...

उसके ममत्व और प्रेम की सीमाओं को अंतहीन देखता हूं मैं !

Dinesh pareek said...

शुभकामना है कि आपका ये प्रयास सफलता के नित नये कीर्तिमान स्थापित करे । धन्यवाद...
आपका ब्लॉग अच्छा है |

आप मेरे ब्लाग पर भी पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, ऐसी कामना है । मेरे ब्लाग जो अभी आपके देखने में न आ पाये होंगे अतः उनका URL मैं नीचे दे रहा हूँ । जब भी आपको समय मिल सके आप यहाँ अवश्य विजीट करें-
http://vangaydinesh.blogspot.com/
http://dineshsgccpl.blogspot.com/
http://pareekofindia.blogspot.com/
http://dineshpareek19.blogspot.com/
http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

om prakash said...

माँ इश्वर की अनमोल कृति है .रचना द्वारा माँ को याद करने के लिए साधू वाद .ओम शर्मा ,रायपुर,(छ.ग.)

om prakash said...

माँ इश्वर की अनमोल कृति है .रचना द्वारा माँ को याद करने के लिए साधू वाद .ओम शर्मा ,रायपुर,(छ.ग.)

om prakash said...

माँ इश्वर की अनमोल कृति है .रचना द्वारा माँ को याद करने के लिए साधू वाद .ओम शर्मा ,रायपुर,(छ.ग.)