have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Thursday, September 30, 2010

इंसानियत


-------------------------------
इंसानियत के बिना
इंसान
शैतान कहलाता है ।
इंसानियत ही
इंसान को
भगवान बनाता है

चित्र गूगल से साभार ।

( अमन की बात चरों तरफ हो रही है , इसलिए इस कविता को फिर से प्रकाशित कर रहा हूँ । )

Wednesday, September 29, 2010

पर्यावरण संतुलन की जननी है -- शेरनी




ईक्कीसवीं सदी में
बांधवगढ़ नेशनल पार्क में ,
शेरनी के अस्तित्व से
बाईसवीं सदी में
ईन्सान के सुखद
अस्तित्व की कल्पना
की जा सकती है।

( यह चित्र मेरी पुत्री एवं मेरे भतीजे ने जून २०१० में नेशनल पार्क में ली है )


Saturday, September 11, 2010

ईद मुबारक हो आप सभी को और अली साहब को भी

पवित्र रमजान माह में
एक दिन
चाँद लेकर आता है ,
ईद की खुशी
खुदा से गुज़ारिश है -
आपके जीवन को
अपने नूर से भर दे
और हर लम्हां ,
खुदा आपके साथ हो

Monday, September 6, 2010

हिरन



जंगल की सन्नाटा में
चारों ओर खामोशी है ,
खामोशी को चीरती
हिरन की उपस्थिति ,
बयां कर रही है ,
चंचलता -
जंगल की ।


( देशाटन ने ही मुझे बहुत सी सीख दी है । हिरन का यह चित्र मेरे द्वारा २५.६.२०१० को बांधवगढ़ नेशनल पार्क में , जो मध्य प्रदेश मे उमरिया जिले मे है ,लिया है । )

Thursday, September 2, 2010

तीर

हमने वक्त के
बदलते रूख को
पहचान लिया है ,

अब
इंतजार के तेरे
तीर -
हमें घायल नहीं -
कर सकते ।

Wednesday, September 1, 2010

छत्तीसगढ़ का वृन्दावन है -छुईखदान

प्रकृति की गोद में
मैकल की पहाड़ियों के करीब बसा है ,
मेरा गाँव
आओ आज मै तुम्हें
अपने गाँव के बारे में कुछ बताऊँ -
अपने गाँव की हवा ,पानी ,मिट्टी का
कुछ क़र्ज़ चुकाऊं
कई रियासतों में एक सरल रियासत थी
छुईखदान ,
राज किया बैरागियों ने
छुईखदान में ,
शहीदों की नगरी है -
छुईखदान ,
भगवान श्रीकृष्ण के मंदिर की बनावट को देखकर
अक्सर बुजुर्ग कहा करते हैं --
छत्तीसगढ़ का वृन्दावन है -
छुईखदान