have faith in me and in my blog ....and.... i m sure u'll then start appreciating nature and small small things around yourself!!! so, FEEL FREE TO SUBSCRIBE & ENJOY!!!

Monday, August 30, 2010

प्रकृति की अदभुत निगाहें

प्रकृति ने
"आंवला " और " तेंदू "
दोनों को
विटामिन -सी प्रचुर मात्रा मे दी है
किन्तु
आंवला को ज्यादा सुंदर बनाया है ,
यदि तेंदू भी सुंदर होता ,
आंवले की तरह
अमीर जरूरत ना होने पर भी
उसे खरीद लाते
फिर गरीब विटामिन -सी
कहाँ से पाते।

आंवला और तेंदू दो फलों के माध्यम से प्रकृति ने मुझे सीख दी है ,उसे में अमीरों के अवांछित संचय पर ध्यान आकर्षित कराकर , प्रकृति की इस महानता पर लोगों की निगाहें ले जाना चाहता हूँ , कि प्रकृति ने अमीर से ज्यादा गरीबों पर ध्यान दिया है , और सूरत से ज्यादा सीरत पर जोर दिया है

1 comment:

ali said...

प्रकृति इंसानों से वैसा ही व्यवहार करती है जैसे कि मां अपनें कमज़ोर बच्चे के साथ ! आँचल का कुछ ज्यादा हिस्सा ,प्रेम का अतिरिक्त सम्बल ,दुलार के आरक्षित अंश !
सार्थक और चिंतन परक पोस्ट !